हिन्दी कंप्यूटर शिक्षा- शिक्षित ग्रामीण भारत, कम्प्युटरीकृत ग्रामीण भारत

कम्पाइलर
कम्पाइलर किसी कम्प्यूटर के सिस्टम साफ्टवेयर का भाग होता है । कम्पाइलर एक ऐसा  प्रोग्राम है, जो किसी उच्चस्तरीय भाषा में लिखे गए प्रोग्राम का अनुवाद किसी कम्प्यूटर की मशीनी भाषा में कर देता है । निम्न चित्र में इस कार्य को दिखाया गया है ।

उच्चस्तरीय भाषा प्रोग्राम –> कम्पाइलर –> मशीनी भाषा प्रोग्राम

हर प्रोग्रामिंग भाषा के लिए अलग-अलग कम्पाइलर होता है पहले वह हमारे प्रोग्राम के हर कथन या आदेश की जांच करता है कि वह उस प्रोग्रामिंग भाषा के व्याकरण के अनुसार सही है या नहीं ।यदि प्रोग्राम में व्याकरण की कोई गलती नहीं होती, तो कम्पाइलर के काम का दूसरा भाग शुरू होता है ।यदि कोई गलती पाई जाती है, तो वह बता देता है कि किस कथन में क्या गलती है । यदि प्रोग्राम में कोई बड़ी गलती पाई जाती है, तो कम्पाइलर वहीं रूक जाता है । तब हम प्रोग्राम की गलतियाँ ठीक करके उसे फिर से कम्पाइलर को देते हैं ।

इन्टरप्रिटर
इन्टरपेटर भी कम्पाइलर की भांति कार्य करता है । अन्तर यह है कि कम्पाइलर पूरे प्रोग्राम को एक साथ मशीनी भाषा में बदल देता है और इन्टरपेटर प्रोग्राम की एक-एक लाइन को मशीनी भाषा में परिवर्तित करता है । प्रोग्राम लिखने से पहले ही इन्टरपेटर को स्मृति में लोड कर दिया जाता है । 

कम्पाइलर और इन्टरप्रिटर में अन्तर
इन्टरपेटर उच्च स्तरीय भाषा में लिखे गए प्रोग्राम की प्रत्येक लाइन के कम्प्यूटर में प्रविष्ट होते ही उसे मशीनी भाषा में परिवर्तित कर लेता है, जबकि कम्पाइलर पूरे प्रोग्राम के प्रविष्ट होने के पश्चात उसे मशीनी भाषा में परिवर्तित करता है ।

Comments on: "13. कम्पाइलर और इन्टरप्रिटर" (6)

  1. विनोद शर्मा said:

    एकदम सरल और आसानी से समझ में आने वाली भाषा में कंप्यूटर की तकनीकी जानकारी दी गई है. कंप्यूटर और हिंदी दोनों के प्रसार की दोहरी उपलब्धि के लिए संदीपजी निश्चय ही बधाई के पात्र हैं. यही करीका है जिससे हम आम आदमी को हिंदी से (इसी के साथ कंप्यूटर से) जोड़ सकते हैं.

    • विनोद शर्मा said:

      एकदम सरल और आसानी से समझ में आने वाली भाषा में कंप्यूटर की तकनीकी जानकारी दी गई है. कंप्यूटर और हिंदी दोनों के प्रसार की दोहरी उपलब्धि के लिए संदीपजी निश्चय ही बधाई के पात्र हैं. यही तरीका है जिससे हम आम आदमी को हिंदी से (इसी के साथ कंप्यूटर से) जोड़ सकते हैं.

    • शर्माजी
      आपके इस प्रोत्साहन के लिए तहे दिल से शुक्रिया

  2. Jasvinder Kumar said:

    आपके इस जानकारी के लिए तहे दिल से शुक्रिया

  3. deepak singh bisht said:

    so nice knowledge thanks

  4. surgyan dan said:

    bahut hi achhi site hai hindi language walo ke liye

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s